किसकी होगी साइकिल : चुनाव आयोग आज सुनाएगा फैसला

साइकिल के सिंबल पर चुनाव आयोग ने पूरी सुनवाई के बाद फैसला शुक्रवार को सुरक्षित रखा था. लेकिन आज संभवत: आज चुनाव आयोग अपने फैसले का एेलान कर देगा,

आइए पूरे घटनाक्रम पर डालें एक नज़र :

शुक्रवार को  पूरे दिन आयोग ने दोनों पक्षों की सभी बातें सुनी. उसके बाद आयोग ने कोई फैसला नहीं सुनाते हुए फैसला रिजर्व रखा था. अखिलेश की तरफ से  वकील कपिल सिब्‍बल ने कहा कि जो भी फैसला चुनाव आयोग करेगा, वह उनको मंजूर होगा.

चुनाव आयोग में शुक्रवार को एक बड़ा फैसला लेना था, आज चुनाव आयोग में सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव और यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बीच समाजवादी पार्टी के सिंबल विवाद पर फैसला किया जाना था. आयोग में आज इस मामले में सुनवाई एक ट्रिब्यूनल की तर्ज पर हुई, ट्रिब्यूनल से सीधा-सीधा अभिप्राय है कि सुनवाई ठीक वैसे ही होगी जैसे अदालत में की जाती है. सुनवाई के दौरान तीनों चुनाव आयुक्तों के साथ चुनाव आयोग के कानूनी सलाहकार भी उपस्थित रहेंगे, खबर यह भी है कि इस सुनवाई की वीडियो रिकॉर्डिंग भी की जा सकती है.

आपको बता दें कि मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव चुनाव आयोग में अपनी दावेदारी पेश कर चुके हैं, मुलायम ने चुनाव आयोग में अपना पक्ष रखते हुए समाजवादी पार्टी का संविधान, रामगोपाल यादव की बर्खास्तगी की चिट्ठी एवं एक पत्र दिया जिसमें ये लिखा है कि रामगोपाल ने जो सम्मेलन बुलाया वह पूरी तरह असंवैधानिक है.

जबकि अखिलेश यादव ने ये दावा छह बक्सों में भरे 1.5 लाख पन्नों के इन कागज़ातों के साथ पेश किया है. अखिलेश यादव के खेमे का पक्ष रखते हुए याचिकाकर्ता रामगोपाल यादव ने  आयोग से कहा है कि सम्मेलन बुलाने के लिए उन्हें अधिकृत किया गया था. 55 प्रतिशत सदस्यों ने सम्मेलन के लिए सहमति दी थी. जबकि संविधान के मुताबिक 40 प्रतिशत से अधिक सदस्य लिखित में दें तो पार्टी संविधान के मुताबिक आपात अधिवेशन बुलाये जाने की अनुमति होती हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *