डिग्री विवाद: लोग नर्सरी के मेरे रिकॉर्ड मांगने को भी स्वतंत्र हैं, स्मृति ईरानी

स्मृति ईरानी (केंद्रीय कपड़ा मंत्री) ने सीआईसी (केंद्रीय सूचना आयोग) द्वारा सीबीएसई से 10वीं और 12वीं के उनके शैक्षणिक रिकॉर्ड के निरीक्षण की इजाजत देने संबंधी निर्देश पर कहा है कि लोगों के पास मेरे नर्सरी कक्षा के रिकॉर्ड मांगने की भी स्वतंत्रता है. सीआईसी ने मंगलवार को सीबीएसई की यह दलील खारिज करते हुए ये कहा कि स्मृति की शैक्षिक योग्यता में उनकी 'निजी सूचना' शामिल है. सूचना आयुक्त श्रीधर आचार्युलू ने कहा था कि यह कहना गलत है कि एक बार किसी के कोई परीक्षा पास कर लेने और एक सर्टिफिकेट के लिए अर्हता प्राप्त कर लेने के बाद नतीजे के बारे में जानकारी निजी सूचना हो जाएगी.

आचार्युलू ने कहा कि यदि प्रवेश पत्र में संपर्क नंबर, पता या ई-मेल आईडी जैसी निजी जानकारियां है, तो जाहिर तौर पर वह उम्मीदवार की पर्सनल सूचना है और हम भी मानते हैं कि वह नहीं दी जानी चाहिए. लेकिन यदि रिजल्ट में प्रमाणपत्र, प्राप्त की गई डिवीजन,  सेशन वर्ष और पिता का नाम है, तो उसे निजी सूचना के तौर पर नहीं लिया जा सकता. उन्होंने एक आदेश में कहा स्मृति जुबिन ईरानी एक जनप्रतिनिधि हैं और जब कोई जनप्रतिनिधि अपनी शैक्षिक योग्यता का ऐलान करता है, तो मतदाता के पास ये अधिकार होता है कि वह उस घोषणा की जांच करा सकें, सूचना आयुक्त ने कहा कि स्मृति जुबिन ईरानी एक निर्वाचित सांसद हैं और केंद्रीय मंत्री के संवैधानिक पद पर आसीन हैं. जन प्रतिनिधित्व कानून 1951 के तहत शैक्षणिक दर्जे की घोषणा हलफनामे में करते हुए उन्हें अवश्य ही अपनी सांविधिक जिम्मेदारी पूरी करनी होगी.

उन्होंने एक आदेश में ये भी कहा कि यदि यह साबित हो गया कि निर्वाचित जनप्रतिनिधि ने अपनी वित्तीय स्थिति, शिक्षा और अपराधों के बारे में चुनाव आयोग को दिए हलफनामे में गलत सूचना दी है तो यह उनके चुनाव को अमान्य कर सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *