शिवसेना और बीजेपी का 25 साल पुराना गठबंधन टूटा

21 फरवरी को होने वाले BMC चुनाव के लिए शिवसेना ने बीजेपी के साथ पिछले 25 सालो से चले आ रहे गठबंधन को तोड़ दिया है. शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मुंबई में रैली में बोलते हुए कहा कि साफ शब्दों मे कहा कि पार्टी ने बीजेपी के साथ गठबंधन में रहकर 25 साल बर्बाद किए. अब वो महाराष्ट्र में अकेले आगे बढ़ेगी. शिवसेना ने मुम्बई के NSE ग्राउंड में आयोजित सभा में बीजेपी पर वार करने का कोई मौका नहीं छोड़ा. उद्धव ठाकरे ने दो टूक कहा कि, 'मैं आज इस मंच से ऐलान कर रहा हूं, कि आज के बाद भविष्य में शिवसेना अकेली महाराष्ट्र में भगवा लहराएगी. मैं गठबंधन के लिए किसी के दरवाजे पर कटोरा ले कर नहीं जाऊंगा. जो कुछ होगा वो मेरे शिवसैनिकों का, शिवसेना प्रमुख का, हमारा होगा. हमे किसी की भीख नहीं चहिए. इसकी की शुरुआत के रूप में महानगर पालिका और जिला परिषद के आगामी चुनाव में कहीं भी हम गठबंधन नहीं करेंगे.

बीजेपी से 25 साल पुराने रिश्ते ख़त्म करने का कारण सीटों का बंटवारा ही हैं. बीजेपी का इस चुनाव में 50-50 फॉर्मूले के तहत आधी सीटें मांगना शिवसेना को ठीक नही लगा. इसे उद्धव ठाकरे ने बिना हैसियत रखा प्रस्ताव करार देते हुए शिवसेना का अपमान करार दिया.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शिवसेना की रैली के बाद तुरंत ही ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने लिखा, सत्ता साध्य है. साधन नहीं. परिवर्तन तो होगा. जो आयेगा उसके साथ जो नहीं आयेगा उसके बगैर.

आपको बता दें कि एशिया की सबसे अमीर महानगर पालिका की लड़ाई में शिवसेना ने बीजेपी को पहले हुए चुनावों के मुकाबले 5 सीटें कम देने का ऑफर दिया था. बीजेपी ने पिछले चुनाव में 65 सीटें लड़ी थी. ऐसे में बीजेपी ने भी इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर अकेले चुनाव में उतरने का फैसला किया है. 21 फरवरी को 227 सीटों वाली मुम्बई महानगरपालिका में चुनाव होने वाले हैं. इसी के साथ अन्य 9 महानगरपालिका और 25 ज़िला परिषद के चुनाव भी महाराष्ट्र में हो रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *