राजनाथ सिंह और सुषमा स्वराज ने कहा कि कुलभूषण के लिए सब कुछ करेंगे

लोकसभा में आज कुलभूषण जाधव का मामला उठा, विपक्षी दल के नेता के मल्लिका अर्जुन खड्गे ने पीएम पर तंज कसते हुए कहा कि मोदी सरकार बिना न्यौते के पाक  नेताओं के यंहा जाते हैं तो क्या इस मामले पर वो पडोसी देश के पीएम से बातचीत नही कर सकते हैं,

लोकसभा में राजनाथ सिंह ने कुलभूषण जाधव मामले पर विपक्ष के सवालों का जवाब देते हुए सदन को आश्वस्त करते हुए कहा कि "भारत सरकार सजा कि निंदा करती हैं",  और "भारत सरकार को इस मामले पर जो भी करना पड़े वह करेगी "

इसके बाद ये मामला राज्यसभा में भी उठा, राज्य सभा में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कुलभूषण जाधव मामले पर अपना बयान जारी करते हुए कहा कि कुलभूषण जाधव पूरे देश का बेटा हैं, जाधव ने कुछ गलत नही किया हैं, विदेश मंत्री ने कहा कि अगर पाक इस सजा को अंजाम देता हैं तो भारत इसको सुनियोजित हत्या मानेगा, पाक ने हमारे लोगो को कुलभूषण से मिलने नही दिया, भारत सरकार इस सजा की घोर निंदा करती हैं, हमारी सरकार को इस मामले पर जो भी करना पडे हम करेंगे, अगर इस मामले को लेकर हमें राष्ट्रपति तक भी जाना होगा तो हम जाएंगे.

विपक्षी दल के नेता गुलाम नबी आजाद ने सरकार से अपील की  इस मामले को पाकिस्‍तान सुप्रीम कोर्ट मे उठाये और सरकार अपनी तरफ से बडे से बडा वकील खडा करें

आपको बता दें कि भारतीय नागरिक कुलभूषण सुधीर जाधव को पाकिस्‍तान ने रॉ का एजेंट होने के आरोप में फांसी की सजा सुनाई है. उनकी गिरफ्तारी से लेकर पहचान तक तमाम सवाल उठ रहे हैं. पाकिस्‍तान का दावा है कि उसने रॉ की जासूसी के आरोप में कुलभूषण(46) को बलूचिस्‍तान से पकड़ा था. हालांकि उनके बारे में यह भी कहा जाता है कि उनका तालिबान ने अपहरण कर पाकिस्‍तान को बेच दिया था. भारत सरकार ने माना है कि वह पूर्व नौसेना अधिकारी थे और 14 साल सेवा में गुजारने के बाद समय से पहले ही रिटायरमेंट ले लिया था. वह 2003 में रिटायर हो गए थे. हालांकि पाकिस्‍तान का दावा है कि जाधव अभी भी भारतीय नौसेना के अधिकारी हैं और उनको 2022 में रिटायर होना था.