राहुल गांधी मिले मोदी से, नोटबंदी पर विपक्षी एकता टूटी

आज विपक्षी पार्टियों के बीच नोटबंदी को लेकर राष्ट्रपति से मुलाकात करने से पहले ही  एकता टूट गई है. विपक्षी पार्टियों ने इस एकता के टूटने का जिम्‍मेदार कांग्रेस पार्टी को ठहराया है. विपक्षी पार्टियों का यह कहना है, कि कांग्रेस पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी से अकेले मुलाकात क्यों की. क्या बाकी पार्टियों को किसानों की चिंता नहीं है. साथ ही विपक्ष ने यह भी कहा है, कि जब हम 20 दिनों से सदन में यह कह रहे हैं कि प्रधानमंत्री को सदन आना चाहिए, फिर कांग्रेस को अकेले जाकर उनसे मिलने की क्या जरूरत थी.

दरअसल कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने  किसानों की समस्‍या को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. राहुल गांधी ने मोदी से मिलने के बाद मीडिया से बातचीत में बताया कि, 'पीएम मोदी ने माना है, कि किसानों की हालत गंभीर है, कर्ज माफ करने की बात सिर्फ सुनी है, उन्‍हें कुछ कहा नहीं है.'

प्रधानमंत्री से मुलाकात में कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल में शामिल 'अमरिंदर सिंह' ने बताया, कि 'हमने किसानों से जुड़ी समस्याओं जैसे कर्ज माफ, आत्महत्या, न्यूनतम समर्थन मूल्य की बात प्रधानमंत्री जी के सामने रखी है. प्रधानमंत्री ने हमें इस मामले पर कार्रवाई करने का पूरा आश्वासन भी दिया है.'

दरअसल, पिछले काफी समय से राहुल नोटबंदी को लेकर नरेन्‍द्र मोदी पर निशाना साध रहे हैं. कुछ दिन पहले ही में पीएम मोदी पर निजी भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था और कहा था, अगर मैं बोला तो गुब्‍बारा फूटेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *