तमिलनाडु में पन्नीरसेल्वम के खेमे को मिली मज़बूती, शशिकला नाराज़

तमिलनाडु में मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम के खेमे को और मजबूती तब मिल गई, जब वी के शशिकला का साथ छोड़कर एआईएडीएमके से एक विधायक और चार सांसद उनके साथ आ गए. दूसरी तरफ एआईएडीएमके महासचिव शशिकला ने मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण कराने में हो रही देरी को लेकर राज्यपाल विद्यासागर राव पर तीखी टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि राज्यपाल द्वारा हो रही देरी से ऐसा प्रतीत होता है कि ‘हमारी पार्टी में टूट को सुगम’ बनाने के लिए है. शशिकला अपने समर्थक विधायकों से यहां स्थित रिसॉर्ट में मिली.

एआईएडीएमके महासचिव शशिकला ने इससे एक दिन पहले राज्यपाल को पत्र लिखकर उनसे कहा कि वह उन्हें जल्द से जल्द शपथ ग्रहण कराने के लिए तुरंत कदम उठाए. उन्होंने फिर कहा कि वह अपने समर्थक विधायकों की परेड कराने के लिए भी तैयार हैं. बात अगर पन्नीरसेल्वम की करें तो अब, पन्नीरसेल्वम धड़े में उनके समेत सात विधायक हैं.

तमिलनाडु की 235 सदस्यीय विधानसभा सीटों में एआईएडीएमके के 135 विधायक हैं. पूर्व मंत्री एम एम राजेंद्र प्रसाद भी मुख्यमंत्री गुट में चले गए. नेताओं के साथ छोड़ने से परेशान शशिकला विधायकों को अपना साथ छोड़ने से रोकने के तहत यहां से करीब 100 किलोमीटर दूर उस रिसॉर्ट मे पहुंचीं जहां तीन दिनों से उन्होंने अपने खेमे वाले विधायकों को रखा है. शशिकला गत पांच फरवरी को एआईएडीएमके विधायक दल की नेता चुनी गयी थीं.

शशिकला की विधायकों से मुलाकात के बाद पार्टी के मंडल के अध्यक्ष के. ए. सेंगोतैयां ने मीडिया से कहा कि विधायकों ने शशिकला के मुख्यमंत्री बनने तक उनका समर्थन का संकल्प लिया है. उन्होंने कहा कि सरकार बनाने का दावा करने के 48 घंटे बाद भी गर्वनर द्वारा कोई फैसला नहीं करने पर शशिकला ने कहा कि, ‘‘हमने कल तक  इंतज़ार किया, आज हम विरोध करेंगे.’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *