खुले में शौच करने वालों पर स्‍वच्‍छ सेवक की कड़ी नज़र

नई दिल्‍लीः खुले में टॉयलेट करने वालों और दीवारों को गंदा करने वाले लोगों की अब खैर नहीं। राजधानी दिल्‍ली को साफ-सुथरा बनाने के लिए नगर निगम ने अपने 28 स्वच्छ सेवक यानी 'लाइव मस्कट' तैनात किए हैं। पीले रंग की टी-शर्ट और नीले रंग की पैंट पहने और साथ मे साफा बंधे, इन स्वच्छ सेवक को देखकर आप को मशहूर कॉर्टून करेक्टर चाचा चौधरी की याद जरूर आ जाएगी, लेकिन एनडीएमसी ने अपने 14 सफाई सर्किल में इन स्‍वच्‍छ सेव‍क को गंदगी फैलाने वाले लोगों और खुले में टॉयलेट करने वाले लोगों पर कड़ी नजर रखने के लिए तैनात किया है। किसी को भी गंदगी करते देखेगें तो मस्‍कट तुरंत सीटी बजाएंगे और उन लोगों पर नियमों के अनुसार कार्रवाई भी की जाएगी।
ख़बर के अनुसार, इस योजना में झुग्गी बस्ती, रेलवे लाइनों के आसपास के इलाकों पर खास नजर रखी जाएगी। एनडीएमसी ने हर सफाई सर्किल में दो-दो लाइव मस्कट को ड्यूटी पर लगाया हैं, जो शिफ्टों में काम कर करेंगें। दिल्‍ली को साफ-सुथरा बनाने के लिए कई इलाकों में पब्लिक टॉयलेट्स और मोबाइल टॉयलेट्स की सुविधा दी जा रही है। शहरी विकास मंत्रालय ने पहले ही एनडीएमसी इलाके को खुले में टॉयलेट करने से मुक्त घोषित कर दिया है।
आप को बता दें, ये योजना इसलिए शुरू की जा रही है, क्‍योंकि केंद्र सरकार 4 जनवरी, 2017 से स्वच्छता सर्वे शुरू करने वाली है। इस सर्वे में पिछले साल एनडीएमसी चौथे नंबर पर थी, मगर इस बार वह नबंर-1 पर आना चाहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *