जानिए क्या है अयोध्या राम मंदिर मामले का पूरा इतिहास ?

सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर मामले पर अहम टिप्पणी करते हुए मंगलवार को कहा कि यह धर्म और आस्था से जुड़ा मामला है तो दोनों पक्ष आपस में मिलकर इस मामले को सुलझाएं. अगर जरूरत पड़ती है तो सुप्रीम कोर्ट के जज मध्यस्थता को तैयार हैं.

आइए जानें- क्या है राम मंदिर मामला और क्यों है इस पर विवाद.

1528: से दावा किया जाता है कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद का निर्माण हुआ.

1949 : बाबरी मस्जिद के भीतर गुप्त रूप से भगवान श्रीराम की मूर्ति रख दी गई, और दावा किया गया कि भगवान राम का जन्म यहीं हुआ था. इसके बाद ये दावे भी सामने आए कि मंदिर हटाकर बाबरी मस्जिद बनवाई गई थी.

1984: मंदिर निर्माण के लिए एक कमेटी का गठन किया गया.

1986: इस विवादित स्थल को श्रद्धालुओं के लिए खोला गया. इसी साल 1986 में ही बाबरी मस्जिद कमेटी का गठन किया गया.

1990: लाल कृष्ण आडवाणी ने देशव्यापी रथयात्रा की शुरुआत की. साल 1991 में रथयात्रा का फायदा बीजेपी को हुआ और वो यूपी की सत्ता में आ गई. मंदिर बनाने के लिए देशभर से ईंटें भेजी गईं.

1992: 6 दिसंबर के दिन हजारों की संख्या में सेवकों ने अयोध्या पहुंचकर बाबरी मस्जिद ढहा दिया, जिसके बाद सांप्रदायिक दंगे हुए.

1992: न्यायमूर्ति लिब्रहान की अध्यक्षता में एक जांच आयोग का गठन किया गया.

1993: इस आयोग ने जांच शुरू की.

2002: विवादित स्थल पर सैकड़ों श्रद्धालुओं का जमावड़ा शुरू हुआ. हाईकोर्ट के एएसआई को इस बात की जांच करने के लिए कहा गया कि 1528 में पहले वहां मस्जिद थी या नहीं.

2003: एएसआई ने कहा कि मंदिर अवशेष के सबूत हैं.

2009: लिब्रहान आयोग ने अपनी रिपोर्ट सौंपी.

2010: हाईकोर्ट ने इन विवादित स्थल को तीन हिस्सों में बांटने का फैसला सुनाया.

2011: सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले पर स्टे लगा दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *