हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन का समापन,आतंकवाद के खात्मे पर जोर

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार यानी आज अमृतसर में हुए हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन के उद्घाटन के मौके पर सभी देशों के प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए आंतकवाद का मुद्दा उठाया और कहा कि आतंकवाद से लड़ाई में सबको एकजुट होना पड़ेगा। साथ ही कहा कि अफगानिस्तान की शांति को आंतकवाद से खतरा है। पीएम मोदी ने यह भी कहा कि सीमापार से चल रहे आतंकवाद की पहचान करनी होगी और इससे मिलकर लड़ना जरूरी है।

आतंकवाद पर निशाना साधते हुए ही मोदी ने कहा, हमें डर और खून खराबा फैलाने वाले आतंकी नेटवर्क को परास्त करने के लिए मजबूत इच्छाशक्ति का प्रदर्शन करना होगा। हमारी चुप्पी और निष्क्रियता आतंक तथा उसके मालिकों को बढ़ावा देगी।
इस सम्‍मेलन में अफग़ानिस्तान के राष्ट्रपति 'अशरफ ग़नी' मौजूद रहे और उन्‍होनें प्रतिनिधि मंडल को संबोधित करते हुए कहा है कि भारत और अफगानिस्तान के बीच पारदर्शिता है और दोनों देशों के बीच रिश्ते विश्वास तथा मूल्यों पर आधारित है। अशरफ ग़नी ने भी आंतकवाद का मुद्दा उठाते हुए कहा कि आतंकवाद को पूरी तरह खत्म करने की जरूरत है और जरूरी है कि इस सम्मेलन पर इस मुद्दे का सामना किया जाए।
इस सम्‍मेलन में वित्तमंत्री अरुण जेटली ने 14 देशों से आए प्रतिनिधि मंडल का स्वागत किया। आप को बता दें, हार्ट ऑफ एशिया का गठन साल 2011 में अफगानिस्तान और उसके पड़ोसी देशों के बीच रक्षा, राजनैतिक और आर्थिक सहयोग बढ़ाने के लिए किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *