राजनाथ सिंह ने सैफुल्ला के पिता के शव न लेने वाले बयान पर कहा “उन पर गर्व है”

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आज संसद में मध्य प्रदेश में भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन ब्लास्ट और लखनऊ में हुए एनकाउंटर को लेकर बयान दिया. गृहमंत्री ने कहा कि मध्य प्रदेश में भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में विस्फोट हुआ, जिसमें 10 लोग घायल हुए हैं. अज्ञात आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है. शुरुआती जांच से पता चला है कि विस्फोटक के लिए आईइडी का इस्तेमाल किया गया. जांच के लिए केंद्रीय एजेंसियों से संपर्क किया गया. वहां इस संबंध में तीन संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया. जांच के आधार पर यूपी में छापेमारी की गई. इसके बाद सैफुल्ला की जानकारी मिली. सैफुल्ला को गिरफ्तार करने के प्रयास किए गए, लेकिन उसने आत्मसमर्पण नहीं किया. उसने एटीएस पर फायरिंग कर दी. कई घंटों की मुठभेड़ के बाद सैफुल्ला को मार गिराया गया. एटीएस ने कानपुर से भी एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया. इस पूरे घटनाक्रम में अब तक छह गिरफ्तारियां हुई हैं. मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश ने तेज कार्रवाई की. इस पूरे प्रकरण की जांच एनआईए को सौंप दी गई है.

राजनाथ सिंह ने सदन में सैफुल्ला के पिता मोहम्मद सरताज के बयान का जिक्र करते हुए कहा कि जो देश का न हुआ वह मेरा कैसे हो सकता है. उसने कोई सही काम तो किया नहीं. मुझे उसका मुंह नहीं देखना. सैफुल्ला ने मुझे शर्मिदा कर दिया. हर किसी के लिए देश पहले है, लेकिन सैफुल्ला के लिए नहीं. जो देश का नहीं, वह मेरा क्या होगा.

मैं और पूरा सदन सैफुल्ला के पिता के प्रति सहानुभूति व्यक्त करते हैं. बेटे की देशद्रोही हरकतों के कारण उन्हें अपने बेटे को खोना पड़ा. सरकार और पूरे सदन को मोहम्मद सरताज पर फख्र है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *