14वें प्रवासी सम्मेलन में बोले पीएम मोदी, हम पासपोर्ट का नहीं खून का रंग देखते हैं

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने बेंगलुरु में 14वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन का उद्घाटन करके इस सम्मेलन को संबोधित भी किया है. इस दौरन पीएम मोदी ने कहा, कि मुझे आज प्रवासी भारतीय दिवस को संबोधित करके खुशी महसूस हो रही है. यह एक ऐसा पर्व है, जिसमें होस्ट भी आप हैं और गेस्ट भी आप ही हैं. साथ ही कहा, कि प्रवासी भारतीय जहां रहे, उन्होंने उस धरती को कर्मभूमि बनाया है. वो जहां  भी रहे, वहां का विकास किया है.

पीएम मोदी ने कहा, 30 मिलियन भारतीय मूल के लोग विदेशों में रहते हैं. वह लोग केवल भारतीय संख्या के लिए नहीं जाने जाते हैं बल्कि जो उनका समाज और उस देश के लिए उनका जो योगदान है, उसके लिए वे लोग पहचाने जाते हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा, कि आज आप उस कर्मभूमि में पधारे हैं जहां से आप के पूर्वजों को प्रेरणा मिलती रहती है. भारतीय मूल के हजारों लाखों भाई-बहनों, यूके, ऑस्ट्रेलिया, साउथ अफ्रीका, जापान, केन्या, मलेशिया और अन्य देशों में रह कर भी भारत की तरक्की में सहयोग दे रहे हैं. पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने कहा, कि हमारी विकास यात्रा में आप हमारे वैल्यूएबल पार्टनर हैं. कभी चर्चा होती थी ‘ब्रेन ड्रेन’ की, तब मैं लोगों को कहता था, कि ‘क्या बुद्धु लोग ही यहां बचे हैं.’ मगर आज मैं बड़े विश्वास के साथ कहना चाहता हूं, कि वर्तमान सरकार ‘ब्रेन ड्रेन को ब्रेन गेन’ में बदलना चाहती हैं. साथ ही कहा, हम पासपोर्ट का रंग नहीं, खून का रंग देखते हैं.

आप को बता दें, इस प्रवासी भारतीय सम्मेलन में बीजेपी नेता अनंत कुमार, विदेश राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह, राज्य के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया मौजूद रहे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *