शशिकला के शपथ ग्रहण पर ब्रेक, अभी शपथ दिलाने के पक्ष में नहीं हैं गवर्नर

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर जारी सस्पेंस अभी आगे भी बरकरार रहने वाला है. राज्यपाल विद्यासागर राव अभी एआईएडीएमके की महासचिव शशिकला नटराजन को सीएम पद की शपथ दिलाने के पक्ष में नहीं हैं. राज्यपाल ने फिलहाल नियमों का हवाला देते हुए कहा कि शशिकला को शपथ के लिए न्योता नहीं दिया जा सकता.

शशिकला के शपथ ग्रहण पर जारी सस्पेंस के बीच सत्तारूढ़ दल एआईएडीएमके में शुक्रवार को कलह और खुलकर सामने आई, एक तरफ पार्टी महासचिव होने के नाते जहां शशिकला ने प्रिसीडियम अध्यक्ष ई मधुसूदन को पार्टी से बर्खास्त कर दिया. वहीं मधुसूदन ने उन्हें एआईएडीएमके (अन्नाद्रमुक) महासचिव के रूप में मान्यता नहीं देने के लिए चुनाव आयोग को पत्र लिखा. इस बीच शशिकला ने बयान दिया और कहा कि हमें विश्वास है कि गवर्नर संविधान और लोकतंत्र की गरिमा बनाए रखेंगे. पहले खबर आई कि राज्यपाल ने तमिलनाडु के घटनाक्रम पर 3 पन्नों की रिपोर्ट केंद्रीय गृह मंत्रालय को दिल्ली भेजी है. लेकिन कुछ देर बाद राज्यपाल के प्रधान सचिव ने इस खबर का खंडन कर दिया. शशिकला ने गुरुवार शाम गवर्नर से मिलकर अपने विधायकों के समर्थन वाली चिट्ठी उन्हें सौंपते हुए सरकार बनाने का दावा पेश किया था. वहीं दूसरी ओर पन्नीरसेल्वम ने भी राज्यपाल से मुलाकात कर विधायकों को अपने पक्ष में होने की बात कही थी.

शशिकला ने पूर्व मंत्री के ए सेनगोट्टैयन को एआईएडीएमके (अन्नाद्रमुक)  का नया प्रिसीडियम अध्यक्ष नियुक्त कर दिया. मधुसूदनन ने गुरुवार को पन्नीरसेल्वम को अपना समर्थन दिया था और कहा था कि वे पार्टी की रक्षा करना चाहते हैं. मधुसूदन ने ये भी तर्क रखा कि शशिकला 31 मार्च 2012  में ही एआईएडीएमके (अन्नाद्रमुक) में दोबारा शामिल हुईं, जिस वजह से वह महासचिव बनने की पात्रता नहीं रखती हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *