पुराने नोटों को जमा करवाने का आज आखिरी दिन : पढ़ें खास बातें

500 रुपए और 1000 रुपए के पुराने नोटों को बैंकों में जमा कराने का आज अंतिम मौका है. यदि अभी भी आपके पास पुराने नोट रखे हुए हैं और किसी भी कारणवश उन्हें आप बैंक में जमा न करवा पाएं तो भी चिंता न करें क्योंकि 30 दिसंबर के बाद भी लोग पुराने नोटों को जमा नहीं करवा पाने का सही कारण बताकर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के काउंटरों से इन्हें 31 मार्च, 2017 तक बदल सकते हैं.
इसी कड़ी मे ये जानना भी आपके लिए जरुरी है कि सरकार की तरफ से कई अहम ऐलान कल यानी 31 दिसंबर की शाम किए जाने हैं. माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री अपने संबोधन में  नोटबंदी की मियाद खत्म होने के बाद के रोडमैप को जनता के सामने रख सकते हैं. वहीं दूसरी ओर सरकार एक सीमा से अधिक 500 रुपए और 1000 रुपए के पुराने नोट रखने पर जुर्माना लगाने का अध्यादेश लाने की भी तैयारी मे जुटी है.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा की थी.नोटो से जुड़ी समस्याओं के निपटारे के लिए 31 दिसंबर तक का वक्त जनता से मांगा था,  हालांकि, बैंकों में स्थिति अब काफी सुधर गई है, लेकिन ज्यादातर एटीएम ऐसे हैं जिनसे अभी भी पैसा नहीं निकल पा रहा है.

नोटबंदी को लेकर कांग्रेस की अगुवाई में विपक्ष का सरकार पर जोरदार हमला लगातार जारी है.  इसी दौरान रिजर्व बैंक ने एक के बाद एक नए सर्कुलर जारी किए जिससे आम लोगों के बीच असमंजस और बढ़ा.नकदी निकासी की सीमा 24,000 रुपये सप्ताह तय की हुई है लेकिन नकदी की कमी की वजह से बैंक ग्राहकों को इससे कम नकदी उपलब्ध करा रहे थे. बैंकरों का मानना है कि 30 दिसंबर के बाद भी बैंकों और एटीएम से कैश निकालने पर अंकुश जारी रहेगा. रिजर्व बैंक ने एक और बड़ा फैसला लेते हुए नोटबंदी से प्रभावित लोगों को राहत देने के लिए  बुधवार को कृषि ब्याज तथा एक करोड़ रुपये तक की सीमा के आवास, कार, कृषि और व्यावसायिक लोन लेने वालों को किश्‍तें चुकाने के लिए 60 दिन के ऊपर 30 दिन यानी कुल 90 दिन का अतिरिक्त समय देने की घोषणा भी की है. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया है कि समीक्षा के बाद फैसला किया गया है कि 21 नवंबर को ऋण चुकाने के लिए जो 60 दिन का अतिरिक्त समय दिया गया था, उसमें आरबीआई ने 30 दिन और अतिरिक्त दे दिए है . यह व्यवस्था एक नवंबर से 31 दिसंबर, 2016 तक के कर्ज बकाए पर लागू होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *