Monthly Archives: February 2017

Former Iran President Mahmoud Ahmadinejad wrote a letter to US President Donald Trump saying US Belongs to all nations.This come after the Trump's immigration ban barring citizens of Seven Muslim Majority nations including Iran from entering the US.

Around 10 Lakh Iranians live in America and US should respect the diversity of nations added former Iran President.

US President Donald Trump already said he would round up and send home up illegal immigrants living and working in America, 5 million of whom are thought to be Mexican which can easily show up in US.

US President Donald Trump announced to build a strong and beautiful wall around US and Mexico border to stop the immigrates from around the country, is also one of his policy to help US People,  and that is resulting into unemployment for many Non-Americans who migrated. He is planning to cover 1,000 miles to construct a wall and natural obstacles will take care of the rest.

Its not that only Mexico is facing such circumstances, many countries are included which are facing issues from the time Donald Trump is the President of US,  after jobs turmoil in Mexico,  trade war with china also occurred in which
he is considering to impose a 45% tariff on Chinese imports and as US is one of the singal biggest exporter with around 20% of total exports of china it will affect china badly.

People are calling this as Trump era. Where US is slowly and gradually being isolated due to different policies of Trump.
Many people are not satisfied by what's going on in US and former Iran President is one of them.

प्रियंका चोपड़ा ऑस्कर अवॉर्ड समारोह का इस साल दूसरी बार हिस्‍सा बनी, रेड कारपेट पर आते ही छा गईं. सबकी निगाहें प्रियंका पर थी, लेकिन सोशल मीडिया को प्रियंका का यह ड्रेस मीडिया को कुछ ज्‍यादा ही पसंद आ गया है. शायद यही कारण है कि प्रियंका के इस ड्रेस की तुलना किसी ने 'वास' से तो किसी ने काजू कतली से तो किसी ने प्रियंका की ड्रेस को जयपुरी रजाई बताया.

राल्‍फ और रूसो की ड्रेस में देखिए प्रियंका चोपड़ा का लुक :

Image Credit : Instagram प्रियंका चोपड़ा
Image Credit : Instagram
प्रियंका चोपड़ा

बॉलिवुड ऐक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा की ड्रेस को लेकर सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हुई. उनकी ड्रेस ने लोगों का ध्यान अपनी तरफ कुछ ऐसा खींचा कि ट्विटर पर जोक्स की बाढ़ आ गई. लोगों ने प्रियंका की इस ड्रेस पर कई तरह के जॉक्‍स किए.

आपको बता दें कि प्रियंका चोपड़ा 89वें ऑस्‍कर अवॉर्ड्स फंक्‍शन में सिलवर कलर की जियोमैट्रिक पेटर्न वाली राल्‍फ और रूसो की ड्रेस में पहुंची. ऐसे में प्रियंका की ड्रेस को सोशल मीडिया पर कई तरह की चीज़ों से कंपेयर किया गया.

THIS IS GREAT WE AREN'T FORGETTING OUR ROOTS

A post shared by All India Bakchod (@allindiabakchod) on

#PriyankaChopra's dress at #Oscars

When you love KAJUKATLI..but you can't eat it ..#Oscar2017pic.twitter.com/lsFgHEnpem

— Bhakk_Saala (@Bhakk_Saala) February 27, 2017

#Oscars2017: #PriyankaChopra shows up in white, looking like ‘kaju katli’ https://t.co/gO3UdAG6WRpic.twitter.com/oek6yE4erc

— Ali Kazmi (@alikazmik) February 27, 2017

आपको बता दें कि पिछले साल ऑस्‍कर में शामिल हुई प्रियंका चोपड़ा ने जुहेर मुराद की ड्रेस पहनी थी और इस सफेद रंग की ड्रेस को काफी पसंद किया गया था. यह ड्रेस गूगल के साल 2016 के रिव्‍यू में भी शामिल थी.

रामजस कॉलेज में हुई हिंसा के बाद से दिल्ली विश्वविद्यालय के नॉर्थ कैंपस का माहौल अब भी गरमाया हुआ है. आज नॉर्थ कैंपस में बड़ी संख्या में AISA के छात्र खालसा कॉलेज से आर्ट्स फैकल्टी तक प्रदर्शन कर रहे हैं तो NSUI के छात्र यूनिवर्सिटी के इलाके में भूख हड़ताल पर हैं, किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए पहले यहां भारी संख्या में पुलिसबल की तैनाती कर दी गई. ताकि किसी तरह के हंगामे को होने से रोका जा सके. यहां करीब एक हज़ार पुलिसबल की तैनाती की गई है. इस मार्च में डीयू ही नहीं, बल्कि जेएनयू, आईपी, अंबेडकर यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स और टीचर्स ने भी हिस्सा लिया है.

वहीं कारगिल में शहीद हुए कैप्टन मनदीप सिंह की बेटी गुरमेहर कौर की शिकायत पर केस दर्ज हो गया है. गुरमेहर ने शिकायत की थी कि उन्हें सोशल साइट्स पर ये धमकियां मिल रही थीं. अब इस मामले की जांच साइबर सेल भी कर रही है.

रामजस कॉलेज के सेमीनार में 21 तारीख को उमर खालिद और शेहला रशीद को बुलाए जाने पर एबीवीपी ने आपत्ति जताई थी और उसी के बाद हिंसा शुरू हो गई थी. कैंपस और खासकर रामजस कॉलेज में इसे लेकर तनाव बना हुआ है. पहले यह बात थी कि इस मार्च में गुरमेहर भी हिस्सा लेंगी, लेकिन अब उन्होंने इस मार्च से खुद को अलग कर लिया है लेकिन ट्वीट कर मार्च को अपना समर्थन दिया है.

Since then, a great program as National Science Day is celebrated around India. Every year by the students, teachers, institutions, technical and research institutions, researchers, medical, academic, scientific institutions in India. On the occasion of the first celebration of National Science Day in India and the popularisation of science communication in recognition of outstanding effort and a plausible national science popularisation award announcement was made by the National Council for Science and Technology Communication.

The goal of the National Science Day

To largely spread a message about the importance of scientific applications in people's daily lives National Science Day is celebrated every year.

All activities,efforts and achievements in the field of science for human well-being.

For the development of science and new technology to implement all issues.

Scientific minds in the country to give citizens a chance.

Science and technology as well as those known to promote.

National Science Day theme

1999 was the subject of "Our Changing Earth".

The theme of 2000 was "to generate interest in basic science."

2001 was the subject of "information technology for science education."

2002 was the subject of "money from the West."

The theme of 2003 was "Ruprekha- 50 years of life and 25 years of IVF DNA."

The theme of 2004 "in the scientific community to promote awareness."

2005 was the subject of Physics "to celebrate".

The theme of 2006 "to bring nature to our future."

2007 was the subject of "more crop per fluid".

2008 was the subject of "Understanding Planet Earth".

The theme of 2009, "to raise the threshold of science."

The year 2010 was the subject of "gender equality for sustainable development, science and technology".

2011 was the subject of "Chemistry in daily life".

2012 was the subject of "Clean Energy Options and Nuclear Safety".

The year 2013 was the subject of "genetically modified crops and food security".

The theme of 2014 was "to promote scientific temper".

Year 2015 was the subject of "nation-building for science".

In 2016, the subject of scientific issues for the country's development goal is to increase public appreciation.

The theme of 2017 is “"Science and Technology for Specially Abled Persons”

Today early morning a private bus going from Bhubaneswar to Hyderabad fell into a river near Vijayawada in Andhra Pradesh, Eight people have died and over 30 others are injured
The injured have been taken to the Nandigama Government Hospital. At least 10 are reportedly very critical.

The bus which was to cover over a 1,000 km to from Odisha to Telangana had made a stop in Vijayawada where a new driver took over.

The bus reportedly overran a bridge divider and plunged through the gap between the two lanes into a river in Mullapadu around 5.30 am.

Gas cutters were used to rescue the passengers.

The driver was suspected to be sleepy and his negligence is being assessed as the cause of the accident, according to initial probe.

उत्तर प्रदेश की चुनावी रैलियों में बयानों का स्तर दिन-प्रतिदिन इतना गिरता जा रहा कि नेता लोग अपने पद की गरिमा भी भूल चुके हैं, मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पीएम मोदी के बिजली वाले बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री तार छूकर देख लें कि उसमें करंट है या नहीं. देवरिया में एक चुनावी रैली में अखिलेश ने कहा कि वाराणसी को 24 घंटे बिजली मिल रही है, लेकिन मोदी झूठे बयान देकर लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं. प्रधानमंत्री गंगा मैया की कसम खाकर कहें कि यूपी में बिजली नहीं दी जा रही है.

मोदी सरकार की 'बुलेट ट्रेन' प्रोजेक्ट पर तंज कसते हुए अखिलेश ने कहा, हम तो उत्तर प्रदेश में मेट्रो चला रहे हैं. आपकी बुलेट ट्रेन कहां है? आपकी सरकार बने अब तो तीन साल हो गए. वह ट्रेन कहां गई? आगे मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि, आप तीन बार गुजरात के मुख्यमंत्री पद पर बैठे. वहां मेट्रो नहीं बनवा पाए. हमने तो तीन जगह मेट्रो बनवा दी है.

नोटबंदी पर बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने नोटबंदी का फैसला लेकर गरीबों और मजदूरों को अपने ही पैसे के लिए ही लाइनों में खड़ा कर दिया. हमारी समाजवादी पार्टी ने उन लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की सहायता दी है.

पिछले हफ्ते लॉन्ग वीकेंड के बाद सोमवार को खुले सार्वजनिक  क्षेत्र के बैंक आज फिर बंद हैं. नोटबंदी के दौरान अतिरिक्त काम करने के लिये बैंक कर्मचारियों को मुआवजा दिये जाने सहित कई अन्य मांगों को लेकर 28 फरवरी को हड़ताल का ऐलान किया है. प्राइवेट सेक्टर के आईसीआईसीआई (ICICI) बैंक, एचडीएफसी (HDFC) बैंक, एक्सिस बैंक और कोटक महिन्द्रा बैंक में कामकाज सामान्य रहने की उम्मीद है. केवल चेक क्लीयरेंस में कुछ समय लग सकता है.

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस यानी यूएफबीयू के बैनर तले विभिन्न यूनियनों ने हड़ताल बुलाई है, जिसका बैंकों के कामकाज पर असर पड़ सकता है. प्राइवेट सेक्टर के बड़े बैंकों स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक (PNB) और बैंक ऑफ बड़ौदा (BOI) सहित कई बैंकों ने अपने ग्राहकों को पहले ही सूचना दे दी थी कि अगर हड़ताल होती है तो उनकी ब्रांचों में कामकाज प्रभावित हो सकता है.

हालांकि, यूएफबीयू में शामिल दो बैंक यूनियनों नेशनल आर्गनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स और नेशनल ऑर्गनाईजेशन ऑफ बैंक ऑफिसर्स इस हड़ताल में शामिल नहीं हैं. इन संगठनों ने इस हड़ताल को राजनीति से प्रभावित कदम बताया है. इन संगठनों का कहना है कि वह इस हड़ताल में शामिल नहीं है इसलिये इसे यूएफबीयू की हड़ताल कहना सरासर गलत है.

ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्फेडरेशन (एआईबीओसी) के महासचिव हरविंदर सिंह ने कहा, 'हड़ताल का कार्यक्रम जारी है क्योंकि बैंक प्रबंधन विशेष तौर से भारतीय बैंक संघ (आईबीए) की तरफ से इसे स्थगित करने के लिये कोई कदम नहीं उठाया गया.' ऑल इंडिया बैंक एम्पलायीज एसोसियेसन (एआईबीईए) के महासचिव सीएच वेंकटचलम ने कहा कि मुख्य श्रम आयुक्त ने बैंक प्रबंधन और कर्मचारी संगठनों के बीच 21 फरवरी को एक सहमति बैठक कराई थी लेकिन इसमें बैंक प्रबंधन के अड़ियल  रुख के कारण बैठक में कोई सकारात्मक परिणाम नहीं निकला.

केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने मंगलवार को  मोदी सरकार में बोलने की आजादी नहीं होने के विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि देश में इतनी अधिक आजादी है कि प्रधानमंत्री तक की तुलना गधे से की जाती है. नायडू ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि, 'आपको देश में अभिव्यक्ति की इतनी आजादी है कि आप प्रधानमंत्री को उनका नाम लेकर बुला सकते हैं, आप इस तरह की बातें लिख सकते हैं कि अगर कल प्रधानमंत्री का निधन हो गया तो कौन व्यक्ति प्रधानमंत्री होगा. आप उनकी तुलना गधे से कर सकते हैं और आप लोग कहते हैं कि अभिव्यक्ति की आजादी नहीं है.'

उन्होंने कहा कि सरकार देश के अलगाव की वकालत करने वाली अभिव्यक्ति की आजादी की सोच की बिल्कुल पक्षधर नहीं है. उन्होंने कांग्रेस और वामपंथी दलों पर आरोप लगाते हुए कहा कि देश के कुछ शिक्षण संस्थानों के घटनाक्रम को एक 'अलग रंग' देने की कोशिश की जा रही है. नायडू ने कहा कि गलत राह पर चल रहे कुछ लोग इन युवाओं को गुमराह करने और सामाजिक तनाव पैदा करने के साथ साथ देश की जनता की भावनाओं को आहत करने का प्रयास करने में जुटे हैं.

उन्होंने कहा, 'अभिव्यक्ति की आजादी नहीं होने का मतलब कुछ भी बोलना नहीं है, संविधान के तहत ये बात प्रदत्त है.' अभिव्यक्ति की आजादी पर कुछ तर्कसंगत पाबंदियां भी हैं. नायडू के अनुसार, 'आप दूसरों की धार्मिक भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचा सकते, आप देश की एकता और अखंडता पर प्रश्नचिह्न खड़ा करते हुए ऐसा कुछ नहीं कह सकते जिससे देश की एकता और अखंडता को खतरा हो. आप अलगाववाद की वकालत या उसके पक्षधर नहीं हो सकते. कोई अलगाव की बात नहीं कर सकता. आजादी क्या है? कश्मीर की आजादी क्या है?'

उनके ये बयान पिछले सप्ताह दिल्ली के रामजस कॉलेज में संघ समर्थित एबीवीपी और वाम समर्थित आइसा के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प की खबरों के बीच आया है. देशद्रोह के मामले में आरोपी जेएनयू छात्र उमर खालिद को एक सेमिनार में आमंत्रित करने को लेकर यह टकराव हुआ था.

रेलों में खाने-पीने को लेकर लगातार मिल रही शिकायतों के बाद किसी भी ठेकेदार को नए लाइसेंस न जारी करने का निर्णय हुआ है. इसकी जगह आईआरसीटीसी को ये महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी सौंपी गई है. रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने दिल्ली में सोमवार को भारतीय रेल में नई कैटरिंग पॉलिसी को लागू करने का ऐलान किया. रेल मंत्री ने पिछले साल अपने रेल बजट भाषण में इसका प्रस्ताव रखा था. सुरेश प्रभु ने कहा, 'हम रेल यात्रियों को अच्छा, साफ सुथरा खाना मुहैया कराना चाहते हैं. हम चाहते हैं कि चलती गाड़ियों में उन्हें स्वादिष्ट और पौष्टिक खाना सप्लाई किया जा सके.' रेलों का खानपान बेहतर करने के लिए रेल मंत्रालय की कई योजनाएं हैं जिनके अनुसार रेल के किचन को आधुनिक शक्ल दी जाएगी. खाना पकाने और खाना पहुंचाने का काम अलग-अलग किया जाएगा. धीरे-धीरे चलती ट्रेनों में खाना पकाने का काम बंद हो सकता है. इसकी जगह अलग-अलग स्टेशनों पर खाना पकाया जाएगा जो ट्रेनों में जाएगा.

रेल मंत्रालय का तर्क है कि नई कैटरिंग पॉलिसी से एक ओर जहां ठेकेदारों की मनमानी ख़त्म होगी तो वहीं दूसरी ओर खानपान की क्वालिटी पर भी इसका असर पड़ेगा. चलती ट्रेनों में खाने की क्वालिटी को लेकर बढ़ते सवालों और शिकायतों के बाद अब रेल मंत्री नई कैटरिंग पॉलिसी के ज़रिये यात्रियों को साफ-सुथरा और बेहतर पौष्टिक खाना मुहैया कराना चाहते हैं. अब अगली चुनौती इस नई कैटरिंग व्यवस्था को कारगर तरीके से लागू करने की होगी.

आईआरसीटीसी को अधिकतर ट्रेन में केटरिंग की जिम्मेदारी देने वाली नई नीति सात साल पुरानी नीति के स्थान पर लाई जा रही है. साल, 2010 में ममता बनर्जी के रेल मंत्री रहते हुए आईआरसीटीसी को केटरिंग की जिम्मेदारी से मुक्त कर दिया गया था. प्रभु ने 2016 के बजट में कहा था, ‘आईआरसीटीसी चरणबद्ध तरीके से केटरिंग सेवा को संभालना शुरू करेगी. यह खाना पकाने और इसके वितरण को अलग अलग रखते हुए केटरिंग सेवा संचालित करेगी.’

रेलवे केटरिंग नीति-2017 आईआरसीटीसी को खाने का मेन्यू तय करने और इसके लिए राशि निर्धारित करने का अधिकार होगा, हालांकि इसके लिए उसे रेलवे बोर्ड से परामर्श लेना होगा. सामाजिक उद्देश्य को हासिल करने के मकसद से इस नीति के तहत स्टाल के आवंटन में महिलाओं को 33 फीसदी का उप कोटा दिया जाएगा.

Famous for his charm and lovely personality Bollywood Sehenshah Amitabh Bachchan advance the ramp for fashion designer Abu Jani and Sandeep Khosla.

The Zanjeer actor, who has been float high with the big hit of Pink, walked the ramp for a charity for children agony from cancer.

"Charities, exits from donations, we all gather here to provoke you and to argue with folded hands, to make generous contribution as you can. It is a very sad site to see young children suffering from cancer and your contribution as can give a opportunity to those children to live of a full and healthy life," Amitabh Bachchan said.

Actor Varun Dhawan and Alia Bhatt besides walked the ramp although dancing to the melody of their recently released song Tamma Tamma.

On the attempt lead, the 74 years - old, will next be feature in Director Ram Gopal Verma's Sarkar - 3, in company with Yami Gautam, Manoj Bajpayee and Jackie Shroff. The Movie is scheduled to release on March 17.